जीएसपी क्रॉप साइंस घरेलू और विदेशी विस्तार के माध्यम से आमदनी में बढ़ोतरी करेगा

बाज़ार में अपनी उपस्थिति और आमदनी बढ़ाने के प्रयास में कृषि-रसायन निर्माता, जीएसपी क्रॉप साइंस ने एक महत्वाकांक्षी योजना तैयार की है। इस योजना में देश और विदेशों में, विशेषकर ब्राज़ील में विस्तार शामिल है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2022-23 में 1,600 करोड़ रुपये की आमदनी दर्ज की थी। इसने वित्त वर्ष 2024-25 तक 1,800 करोड़ रुपये की आमदनी हासिल करने के साथ उसके बाद 3-4 वर्षों में 2,500 करोड़ रुपये तक पहुँचने का दीर्घकालीन लक्ष्य निर्धारित किया है।

चीन पर निर्भरता घटाना 

अपनी रणनीतिक योजना के तहत, जीएसपी क्रॉप साइंस कच्चे माल के लिए चीन पर अपनी निर्भरता समाप्त कर रही है। कंपनी अपने उत्पादों के लिए आवश्यक बिचौलिए तैयार करने की योजना पर काम कर रही है। यह आत्मनिर्भरता दाहेज, गुजरात में एक तीसरी फैक्‍ट्री में 100-110 करोड़ रुपये के निवेश के माध्यम से हासिल की जायेगी। इस नए कारखाने से शुरुआत में चार बिचौलिये उत्पन्न होंगे।

शोध और विकास पर जोर 

कंपनी ने अनुसंधान और विकास में महत्वपूर्ण प्रगति की है और जम्मू एवं अहमदाबाद, गुजरात में इसके दो समर्पित अनुसंधान और विकास (आरऐंडडी) केंद्र हैं। यह कंपनी अपनी आमदनी का 7-8% हिस्सा अनुसंधान और विकास पर खर्च करती है और इसे 150 पेटेंट का गौरव हासिल है, जिनमें से 70 पेटेंट इसके अपने उत्पादों के लिए स्वीकृत किये गए हैं।

कार्यबल और बाज़ार हिस्सेदारी बढ़ाना 

मौजूदा दो फैक्ट्रियों की संपूरक आगामी दाहेज कारखाने के साथ कंपनी अपने कार्यबल में 200 तक की बढ़ोतरी की उम्मीद कर रही है। प्रबंध निदेशक, भावेश शाह का पूर्वानुमान है कि आने वाले वर्षों में कंपनी की बाज़ार हिस्सेदारी भारत में 6-7% तक हो जायेगी। उम्मीद के अनुसार, यह वृद्धि विशेषकर हर्बिसाइड पोर्टफोलियो में उत्पाद विस्तार और भारत के पूर्वी तथा पूर्वोत्तर क्षेत्रों में मजबूत उपस्थिति से प्रेरित होगी। भारत में अभी जीएसपी क्रॉप साइंस का 50 से अधिक ब्रांडों का पोर्टफोलियो है।

ब्राज़ील पर फोकस के साथ वैश्विक विस्तार

अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर, निर्यात और घरेलू बाज़ार का अनुपात 15:85 है, जबकि यह 60 से अधिक देशों में निर्यात करती है। कंपनी ने हाल में ब्राज़ील में अपने व्यवसाय का कार्यक्षेत्र बढ़ाया है और लैटिन अमरीकी देशों में 2-3 मिलियन यूएस डॉलर निवेश करने की योजना बना रही है। भविष्य के लिए इसके लक्ष्यों में ब्राज़ील में एक फार्मूलेशन इकाई स्थापित करना शामिल है। ग्लोबल बिजनेस हेड और स्ट्रैटेजी, वी.एन.राजेश ने ब्राज़ील में परिचालन स्थापित करने के पहले बाज़ार ने विनियमों और जटिलताओं को समझने के महत्व पर जोर दिया।

 

About the Author

You may also like these